मूल्य और समर्थन प्राप्त करें

एक कहानी रोज़ कॉमरेड का कोट

उनमें एक इच्छा जगी कि वह अंगीठी में बदल जाते तो जैसे किसी जंगली मकना हाथी का निचला जबड़ा तोड़ दिया गया हो और दर्द के मारे वह मुँह फैलाता जाये ऐंठते हुए

Hindi Grammar Work Sheet Collection for Classes 5 6 7 8

वह आसमान से बातें कर रहा था । ङ कोल्हू के बैल की तरह काम करता है । उत्तर - क मुँह फुला कर । ख हवा से बातें । ग मुँह में पानी भर । घ पेट में चूहे कूद । ङ खून

मिर्ज़ा चपाती

मिर्ज़ा कुछ पढ़ा-लिखा भी या घास ही खोदते रहे अरे जबान की टक्साली क़ीले ही में तो थी वहाँ मुहावरात नहीं ढलते तो कहाँ ढलते। तबियतें हर

वीर विनायक दामोदर सावरकर भारत के अमर क्रांतिकारी

इन्हीं सावरकर दंपति के यहां वैशाख कृष्ण 6 संवत् 1940 तदनुसार 28 मई सन् 1883 को एक बालक का जन्म हुआ और भारतीय इतिहास में यही बालक आगे चलकर वीर विनायक दामोदर

ओशो सत्‍संग/ OSHO SATSANG शिक्षा में क्रांति

जोगी तु क्यों आया मेरे द्वारा। तेरी आंखों में नहीं दिखता सपनों का अब वो संसार। जोगी तु क्यों आया मेरे द्वार

एक शाम काव्य

कवि और कवियत्री के हमसफ़र का सफ़र काफी दुश्वार होता है। कवि महाराज़ रोज़ अपनी महारानी के गुणों का गुणगान ऐसे चुनिंदा शब्दों में करते है कि बेचारी

कहावत लोकोक्ति मुहावरे

4- कंगाली में आटा गीला। अर्थ - नुक़सान पर नुक़सान होना। 5- कंधे से कंधा छिलना। अर्थ - भारी भीड़ का होना मेलों में यात्रियों का कंधे से कंधे छिलता है। 6- काहे प

एक कहानी रोज़ कॉमरेड का कोट

उनमें एक इच्छा जगी कि वह अंगीठी में बदल जाते तो जैसे किसी जंगली मकना हाथी का निचला जबड़ा तोड़ दिया गया हो और दर्द के मारे वह मुँह फैलाता जाये ऐंठते हुए

Harivansh Rai Bachchan Poems

Harivansh Rai Bachchan Poems अर्थात इस आर्टिकल में आप पढेंगे हरिवंशराय बच्चन की कविताएँ हरिवंशराय बच्चन हिन्दी भाषा के एक सर्वोताम्म अवम श्रेष्ठ कवी थे

सृंजय कॉमरेड का कोट कहानी

ओसारे से बाहर सिर निकालते ही माघ का तुषार बबूल के काँटे की तरह बरसा। कमलाकांत उपाध्याय के जोड़-जोड़ में सिहरन भर गई। उनके दाँत जोरों से रपटने लगे। वह

क्या महत्व है सदगुरु का

में एक मुकदमा था अदालत में। एक जमीन का टुकड़ा है छ एकड़ जमीन का टुकड़ा है वह राधा—कृष्ण के नाम है। अब एक झंझट खड़ी हो गई कि इतनी जमीन

किस्सा

तुझे पता नहीं ये लड़की पत्थर को कोल्हू में डालकर तेल निकाल सकती है और जार्ज बुश से अपनी रसोई में चाय बनवा सकती है " एक दोस्त बोला

कविता/शायरी 2012

बज़्म में वो लौट कर अब नहीं आने वाले !! तुम्हारी नादानियों से टूट गए जो खिलौने इन कमजोर कोशिशों से नहीं जुड़ने वाले !! दिल से मिट चुके हसीं यादों के जो मंजर

जीवन में साहित्य का महत्व प्रेमचंद

Nitin Thakur 15 hrs जब कई साल पहले पढ़ने का उत्साह सूख चुका था। किताबें खरीदे जाने के बाद ढेर में तब्दील हो रही थीं। उन दिनों किताब से बाहर की दुनिया को संभालने के

मुहावरे – SandeepBarouli

प्रश्न – मुहावरा और लोकोक्ति में क्या अंतर है ? छोटे मुंह बड़ी बात करना छौ-पाँच में पड़ना जंगल में मंगल करना जंजाल में फसना जख्म पर नमक छिड़कना जख्म ह

Digital Team Author at Sarita Magazine

दूसरे के घर या राह चलते पत्थर मार कर आम तोड़ने का मजा ही कुछ और है चोरी के ये आम बडे़ स्वादिष्ठ लगते हैं क्योंकि ये मेहनत और चालाकी से हासिल किए जाते हैं �

Hindi Grammar Archives

कोल्हू का बैल-अत्यन्त परिश्रमी। मजदूर रात-दिन कोल्हू के बैल की तरह जुटे रहने पर भी भरपेट रोटी प्राप्त नहीं कर पाते। 113 खटाई में डालना-उलझन पैदा करना। मे�

के बारे में समाचार कोल्हू तोड़ पत्थर छोटे में

छोटे खनन कार्यों के लिए क्रशर

भारत में कोल्हू संयंत्र पीडीएफ

दक्षिण अफ्रीका में कोल्हू पुर्जों

कोल्हू स्पेयर पार्ट्स ड्राइंग

कोल्हू प्रबंधन प्रणाली पत्थर कोल्हू

कोल्हू गाल प्लेट मोबाइल कोल्हू

कोल्हू कितने टन का

कोल्हू आग गड्ढे

कोल्हू की क्षमता 15 tph में

कोल्हू आप की ट्यूब वीडियो

कोल्हू की फोटो रेत बनाने का पत्थर

श्री में कोल्हू मशीनरी उत्पाद

सोने के खनन उद्योग के लिए कोल्हू

भारत में कोल्हू गर्म बिक्री

क्रशर प्लांट में लीज

बिक्री के लिए कोल्हू मशीन संयंत्र

खनन में इस्तेमाल होने वाला कोल्हू भारी

जमीन के झुंड के लिए कोल्हू मशीन

कोल्हू मशीन की क्षमता टन घंटे

पत्थर का क्रशर श्रम से