मूल्य और समर्थन प्राप्त करें

Hindisamay समग्र साहित्य सबके लिये

अब पूछे कि यह कैसे जानें कि कौन सी पुस्तकें अच्छी और पढ़ने योग्य हैं और कौन सी पुस्तकें बुरी और रद्दी में फेंकने योग्य हैं तो मैं यही कहता हूँ कि इस विषय �

मैं अपनी दादी माँ जैसा बनना चाहती हूं

सुबह सुबह का टाइम था बच्चों और पति को स्कूल भेज चुकी थी थोड़ी देर सोचा सोफा पर आराम कर लेती हूं फिर बाकी घर का काम निपटाऊंगी तभी मेरी मां का फोन आया मैंने

चालीसा आरती और मंत्र

नन्दि गणेश सोहै तहँ कैसे। सागर मध्य कमल हैं जैसे॥ कार्तिक श्याम और गणराऊ। या छवि को कहि जात न काऊ॥ [आपके सानिध्य में नंदी व गणेश सागर के बीच खिले कमल के स�

कविता

एक के बदले दस मारेंगे अभिलाषा कुछ और नही है।। हम मुस्लिम हैं या हिन्दू हैं वीर हमीद के जैसा खूँ है तू तो है नाखून बराबर फिर तुझको काहे की बू है धूल चटाई तु�

RP विशाल

कोरोना 2019 में अस्तित्व में आया। विश्वभर के देशों में से किसी ने इसे सीरियसली लिया और एकदम अपने देश को हवा तक न लगने दी तो किसी ने इसे हल्के में लिया और

कविता

मानता एक दिन सभी से घर छुड़ाकर ही तो है।। Post a Comment Read more Get link Facebook Twitter Pinterest Email Other Apps June 06 2016 आज नहीं तो कल बिछड़ेंगे । कब तक एक शाख पर होंगे।। आंधी और तूफान बने हैं बान

माह की कविताएँ

एक बड़ी बूँद टपकी अभी अभी कुछ यहाँ गिरी कुछ कहीं कहीं उमड़ घुमड़ करने लगे हैं अब मेघ पवन का बढ़ गया अब वेग लगता है अब छत टपकने वाली है बारिश आने वाली है

Pies फोटो सदन

घर पर pies के लिए स्टफिंग पकाने के लिए कैसे आलू के साथ pies के लिए भरने गोभी स्वादिष्ट के साथ pies के लिए भरने खमीर आटा से गोभी के साथ pies के लिए भरने pies के लिए टॉपिं

I AM PROUDE TO BE HAVE A JAT – ANCIENT JAT HISTORY

एक अंग्रेज परिवार ऊँटकराची में बैठा हुआ इस गांव के पास से सड़क पर जा रहा था । वे चार व्यक्ति थे एक स्वयं दो उसके पुत्र और एक उसकी धर्मपत्नी । जब वे चारों

मालीगांव लुप्त होती भारतीय संस्कृति

हमारी आंचलिक संस्कृति कहें चाहे इसे भारतीय संस्कृति कहें इसमें बहुत से शब्द या चीजे इस समाज से लुप्त नष्ट होते जा रहें है ऐसा लगता है आन

सरसों

सरसों की उपज को बढाने तथा उसे टिकाउफ बनाने के मार्ग में नाशक जीवों और रोगों का प्रकोप एक प्रमुख समस्या है। इस फसल को कीटों एवं रोगों से काफी नुकसान

चंक/chank

चक्की। ६ कोल्हू। ७ पानी का भँवर। ८ हवा का बवंडर। चक्रवात। ९ दल। समुदाय। १॰ एक प्रकार का सैनिक व्यूह। ११ गाँवों शहरों का समूह। मंडल

चालीसा आरती और मंत्र

नन्दि गणेश सोहै तहँ कैसे। सागर मध्य कमल हैं जैसे॥ कार्तिक श्याम और गणराऊ। या छवि को कहि जात न काऊ॥ [आपके सानिध्य में नंदी व गणेश सागर के बीच खिले कमल के स�

कैसे खाना पकाने के लिए अपने खुद के हाथ फ़ीड खरगोशों

खरगोशों के लिए मिश्रित चारा अपने हाथों से कैसे पकाने के लिए Share Pin Tweet Send Share Send Send भले ही घर का आकार (चाहे वह खरगोशों का जोड़ा हो या बड़ा खेत) यह सुनिश्चित

कविता

एक के बदले दस मारेंगे अभिलाषा कुछ और नही है।। हम मुस्लिम हैं या हिन्दू हैं वीर हमीद के जैसा खूँ है तू तो है नाखून बराबर फिर तुझको काहे की बू है धूल चटाई तु�

सुधीर राघव चर्चा और चिट्ठा August 2010

सुधीर राघव 'महंगाई डायन खाय जात है` बेचारा वेतनभोगी रघुवीर यादव का सुर निकाल रहा है-क्या करें मालिक वेतन ही नहीं बढ़ाता है। खर्चे लगातार बढ़ रहे हैं। अब

उपन्यास

इंजन को कोयला-पानी भी मिल गया। चाल तेज हुई। जाड़े के दिन न जाने कब दोपहर हो गया। एक जगह देखा एक युवती एक वृक्ष के नीचे पति से सत्याग्रह किए बैठी थी। पति

के बारे में समाचार कोल्हू कैसे एक साग

कोल्हू जुर्माना और ठोस धूल

कोल्हू दक्षिण दक्षिण अफ्रीका के लिए

क्रशर इकाई परियोजना रिपोर्ट

कोल्हू हथौड़ा चक्की प्रभाव हथौड़ा

कोल्हू रेत भारत में इस्तेमाल किया

कोल्हू पत्थर कोल्हू संयंत्र है

कोल्हू ठीक के लिए पहली पसंद

बिक्री के लिए क्रशर मोबाइल

कोल्हू मशीन के लिए कुचल उपकरण

मालिक द्वारा बिक्री के लिए कोल्हू

इंडोनेशिया के मलेशिया में कोल्हू की बिक्री

कोल्हू मोबाइल मिनी kapasitas टन

खदान और खनन के लिए कोल्हू

कोल्हू चूना पत्थर कोल्हू पी मोबाइल

बिक्री के लिए क्रेशर स्टेशन क्रेगलिस्ट

सामान्य परियोजना में क्रशर

चीन में कोल्हू गर्म बिक्री

मूल्य सूची के साथ कोल्हू

कोयला बिजली के लिए कोल्हू मशीन

कोल्हू पत्थर पत्थर खदान संयंत्र