मूल्य और समर्थन प्राप्त करें

सबलोग March 2016

तो एक-सा जीवन जीते जाने की थकान से ही हमें नई-नई बातें सूझती हैं। कोल्हू का बैल अपनी तरक्की अपने लिए नए अवसर अपने लिए नए सार्थक अवसर की खोज करता है। नया

अष्‍टावक्र महागीता

यह सच है लेकिन अस्तित्व स्वयं अकारण है। परमात्मा स्वयं अकारण है उसका कोई कारण नहीं है। संबोधि यानी परमात्मा। संबोधि यानी अस्तित्व। फिर और सब घटता है

katha

अनामिका जी नारी होकर इतनी संवेदना हीनं करुणा विहीन कविता 'ब्रेस्ट कैंसर' जैसे गंभीर विषय पर कैसे लिख सकी मैं तो यह सोचकर हैरत में हूँ। उनकी कविता में न

गोरा अध्याय 2

गोरा अध्याय 2 Novel HindiAdda - हिंदी अड्डा अंग्रेज़ी नावल विनय ने बहुत पढ़ रखे थे किंतु उसका भद्र बंगाली परिवार का संस्कार कहाँ जाता?

आत्म

कहें कबीर नाम बिन बेड़ा उठ गया हाकिम लुट गया कैसे जानें अपने को ? -भइ परापत मानुख देहूरिया। गोविन्द मिलन की यह तेरी बरिया।। अवर काज तेरे किते न काम। मिल

जिन्दगी की पहचान

1-अपने स्वार्थ की प्यास- अपने जीवन में हमें विभिन्न प्रकार की प्यासों का अनुभव होता है। अगर हम यह देखें कि प्यास कैसे पैदा होती है तो उपयुक्त न होगा बस

October 2015

सब की सुनो मीना की दुनिया-रेडियो प्रसारण एपिसोड-27 कहानी का शीर्षक- "सब की सुनो" कल मीना के स्कूल में बाल संसद की बैठक होने जा रही है उस बैठ

Lalit Aggarwal Author at ACS Career

कौन नहीं चाहता की आप जीवन में सफल(Success) हो ? (post) यह आर्टिकल में 3 इडियट फिल्म के एक बड़े मशहूर डाईलाग से शुरू करता हूँ

Deshbhakton Ke Balidan

देशभक्तों के बलिदान (कुछ विशेष पृष्टों का संकलन) सम्पादक - स्वामी ओमानन्द सरस्वती प्रकाशक - हरयाणा साहित्य संस्थान गुरुकुल झज्जर जिला झज्जर (हरयाणा

hindi kahani online Archives

''कैसे सब्र कर लूंगी जिंदगीभर हम ने घीदूध में अपने बच्चों को पाला अब कल की आई बहू हमें सिखाती है कि हमें क्या और कैसे खाना है

काम वही लेकिन कंपनी ने नाम बदल कर किया 'इनर गेस्ट'

बिना शादी वाले क्यों बनते हैं 'कोल्हू के बैल' इमेज कॉपीरइट Getty Images Image caption कर्मचा

काल सर्प योग कष्टकारक लेकिन ऐश्वर्यदायक योग

राहू और केतु को इस नभ मंडल के दो बिंदुओं कि संज्ञा दी गई है। दूसरे शब्दों में राहू और केतु कि धुरी पर ही संपूर्ण नभ मंडल भ्रमण कर रहा है। यदि जन्मांक में

माहरा हरयाणा ( हरयाणवी कविताये रचनाये गीत [Archive

04 11 2012और सीख ले कैसे होती है अपने दुश्मन की पहचान फिर तू देश पर राज करेगा और रहेगा नहीं कंगाल । सच पूछो तो सही मायनों में ये हैं धरती के लाल ॥२॥ चरणसिंह ने भी खूब

ओशो सत्‍संग/ OSHO SATSANG जगत तरैया भोर की

क्योंकि यह हो कैसे सकता हो गए और सारे गांव में खबर फैल गई। और एकनाथ कहें तो ठीक ही कहा होगा। अब एकनाथ तो झूठ तो बोलेंगे नहीं। मौत निश्चित है। वह तो तीसरे

विक्षनरी हिन्दी

वि० [अ० मुआफ] दे० 'माफ'। उ०—जब सरकार आपको मुआफ कर देगी तो मुकदमा कैसे चलाएगी।—गवन पृ० २८९। ⋙ मुआफकत संज्ञा स्त्री० [अ० मुआफकत] १

गोरा अध्याय 2

गोरा अध्याय 2 Novel HindiAdda - हिंदी अड्डा अंग्रेज़ी नावल विनय ने बहुत पढ़ रखे थे किंतु उसका भद्र बंगाली परिवार का संस्कार कहाँ जाता?

दिव्य नर्मदा Divya Narmada विशेष लेख कविता

दिव्य नर्मदा हिंदी तथा अन्य भाषाओँ के मध्य साहित्यिक-सांस्कृतिक-सामाजिक संपर्क हेतु रचना सेतु A plateform for literal social cultural and spiritual creative works

क्रान्ति का अंगारा भगतसिंह (काव्य)

ram singh premi poem poetry sonal kranti samrat chaukidar chor bangye बेटी की भेंट क्रान्ति सम्राट चौकीदार चॊर बन जाये तक॔ की कसौटी पर क्रान्ति का अंगारा About Ram Singh Premi Emperor revolution Watchmen becomes Cॊr Daughter's Presence To test Embers of

अदब से मुठभेड़ किताब में ओमा शर्मा द्वारा

'मेरे पास अभी गर्व या संतोष करने लायक ज्यादा कुछ नहीं है '— शिवमूर्ति वरिष्ठ कथाकार शिवमूर्ति से कथाकार ओमा शर्मा की बातचीत शिवमूर्त

के बारे में समाचार कोल्हू अंग्रेजी कैसे कहें

कोल्हू का उत्पादन 1500 टन प्रति

कोल्हू मशीनरी प्रभाव कोल्हू मशीन है

कोल्हू का उपयोग कनाडा और में किया जाता है

श्री लंका में कोल्हू उपकरण

बेहतर के साथ कोल्हू मशीन की कीमत

क्रशर का सबसे अधिक उपयोग किया जाता है

कोल्हू मशीन ठीक प्रभाव कोल्हू

पश्चिम बंगाल में कोल्हू उद्योग

क्रेशर मशीन की कीमत गुज्जरात में

मलेरिया में कोल्हू उपकरण आपूर्तिकर्ता

के साथ मलेशिया में कोल्हू की कीमत

पेराई के मोड पर क्रशर

कोल्हू मशीन लागत मूल्य में

कोल्हू मिलों मोबाइल पेराई

कोल्हू आपरेशन मैनुअल मोबाइल कोल्हू

चीन से कोल्हू स्पेयर भाग

बिक्री के लिए ग्रेनाइट के लिए कोल्हू

कोल्हू मशीन में पी

रॉक में बिक्री के लिए कोल्हू

भारत में कोल्हू और उत्खनन